Google+ Followers

शुक्रवार, 1 जून 2018

आरएसएस-मोदी भारत की आत्मा के शत्रु है ; ये पराजित होने के लिये अभिशप्त है

कैराना में आरएसएस-मोदी की पराजय के बाद एक सोच :

-अरुण माहेश्वरी

आरएसएस की राजनीति को धूल चटा कर भारत अपनी प्राचीनतम वैविध्यपूर्ण समृद्ध अस्मिता में समय के साथ आई अनेक दुर्बलताओं से मुक्त होकर वर्तमान के मैले हो चुके खोल को पूरी तरह से पलट देगा और परिवर्तन के एक नये बिंदु से अपनी तात्विक नूतनता को फिर से अर्जित करके स्वयं को तरोताजा, नवीनतर करेगा इसी अर्थ में भारत की वर्तमान राजनीति का यह एक युगांतकारी क्षण है  

अभिनवगुप्त ने इसे ही अपने शैवमत का प्रत्यभिज्ञा दर्शन  कहा है यह मानव प्रगति का अनोखा सूत्र है। हेगेल की शब्दावली में पूर्ण प्रत्यावर्त्तन, Total Recoil  

कैराना में चार साल पहले के सांप्रदायिक विभाजन की इस बार की पराजय में हमें भारत की इसी प्राचीन नवीनता की जीत दिखाई देती है जिसे आज के समय के कम्युनिस्ट दार्शनिक एलेन बाद्यू एक प्रकार की संरक्षणवादी नवीनता, conservative novelty कहते हैं जो प्राचीन है, वह भी हमेशा वर्तमान की, एक प्रकार की नवीनता के तर्कों की भी भूमिका निभाता है वह कभी प्रगतिशील रूपांतरण में बाधा बनता है, तो अक्सर प्रतिक्रियावादी तानाशाही का भी प्रतिरोध तैयार करता है  

इसीलिये हम बार-बार कहते हैं कि आरएसएस ने हिटलरी रास्ते पर चल कर, फासीवादी राष्ट्रवाद के नाम पर भारतवर्ष के संपूर्ण अस्तित्व के खिलाफ युद्ध छेड़ रखा है इसे हम घुमा कर आरएसएस के हमलों के विरुद्ध भारतवर्ष की संपूर्ण अस्मिता का संघर्ष भी कह सकते हैं  

इस लड़ाई में आरएसएस कभी विजयी नहीं हो सकता है, क्योंकि उसकी पूरी परिकल्पना में मनुष्य की, भारत की मूल आत्मा की मुक्ति का कोई स्थान नहीं है भारत के अपने मु्क्त मन को अपनी इस दौरान पैदा हुई दुर्बलताओं से मु्क्त होना है और अपने आजाद शैशव की ताजगी को अर्जित करके आगे बढ़ना है, आरएसएस के पास उसका कोई रास्ता नहीं है बनिस्बत्, वह भारतीय इतिहास के विकास पथ की कमजोरियों के पाश से उसे जकड़े रखने के लिये, हिंदू पादशाही के तानाशाही शासन को कायम करने के लिये काम कर रहा है वह भारत की मुक्ति और नवीनता की दिशा के रास्ते की आज सबसे बड़ी बाधा है जिसे आधुनिक राजनीति की परिभाषाओं के अनुसार फासीवाद कहा जाता है  


आरएसएस के इन आक्रमणों के खिलाफ भारत की मुक्तिकामी आत्मा निश्चित तौर पर विजयी होगी - इसी मानदंड पर हम राजनीति के आज के दौर की सारी रणनीतियों-कार्यनीतियों को आंकते हैं और हमेशा इसी पर बल देते हैं